दिल तो बच्चा हैं जी

Song: Dil to bachcha hai ji
Movie: Ishqiya (2010)
Music By: Vishal Bhardwaj
Lyrics By: Gulzar
Performed By: Rahat Fateh Ali Khan

ऐसी उलझी नज़र उनसे हटती नहीं
दाँत से रेशमी डोर कटती नहीं
उम्र कब की बरस के सुफेद हो गयी
कारी बदरी जवानी की छटती नहीं
वल्ला ये धड़कन बढ़ने लगी हैं
चेहरे की रंगत उड़ने लगी हैं
डर लगता हैं तनहा सोने में जी
दिल तो बच्चा हैं जी, थोडा कच्चा हैं जी

किसको पता था पहलू में रखा
दिल ऐसा पाजी भी होगा
हम तो हमेशा समझते थे कोई
हम जैसा हाजी ही होगा
हाय ज़ोर करें, कितना शोर करें
बेवजह बातों पे ऐवे गौर करें
दिलसा कोई कमीना नहीं
कोई तो रोके, कोई तो टोके
इस उम्र में अब खाओगे धोखे
डर लगता हैं इश्क़ करने में जी

ऐसी उदासी बैठी हैं दिल पे
हँसने से घबरा रहे हैं
सारी जवानी कतरा के काटी
पीडी में टकरा गये हैं
दिल धड़कता है तो ऐसे लगता है वो
आ रहा है यहीं देखता ही ना हो
प्रेम की मारें कतार रे
तौबा ये लम्हे कटते नहीं क्यों
आँखें से मेरी हटते नहीं क्यों
डर लगता हैं मुझ से कहने में जी

—————————————————

Lyrics Source: http://goo.gl/ZXdORY

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s