मिर्झा गालिब शायरी

Mirza Ghalib was a classical Urdu and Persian poet from the Mughal empire during the British colonial rule. Most notably, he wrote several gazals during his life, which have since been interpreted and sung in many different ways by different people. Ghalib, the last great poet of the Mughal Era, is considered to be one of the most popular and influential poets of the Urdu language. Below is a collection of a few of his best lines I came across on the internet.

Image

हम तो फना हो गये उसकी आखें देख कर गालिब.. ना जाने वो आईना कैसे देखते होगे..!

——————————————————–

हातो कि लकीरो पे मत जा ए गालिब..
नसीब तो उनके भी होते है जिनके हात नही होते..!

——————————————————–

एक दिन हमारे आसू हम से पूछ बैठे, हमे रोज रोज क्यु बुलाते हो..
हमने कहा हम याद तो उन्हे करते है तुम क्यु चले आते हो..?

——————————————————–

किसी फकीर के झोली मै जब मैने एक सिक्का डाला,
तब ये जाना के इस मेहन्गाई के जमाने मै दुआ आज भी कितनी सस्ती है..!

——————————————————–

तेरे हुस्न को पर्दे कि जरूरत नही गालिब..
कौन होश मै रहता है तुझे देखने के बाद..?

——————————————————–

जिंदगी उसकी जिसके मरने पे जमाना अफसोस करे गालिब..
यु तो हर कोई आता है दुनिया मै मरने के लिये..!

——————————————————–

उम्र भर हम यही गलती करते रहे..
धूल चेहरे पे थी और हम आईना साफ करते रहे..!

——————————————————–

कितनी फिक्र है कुदरत को मेरी तनहाई कि,
जागते रहते है सितारे मेरे लिये..!

——————————————————–

हमने मोहाब्बत के नशे मै आकर उसे खुदा बना डाला..
होश तब आया जब उसने कहा के खुदा किसी एक का नही होता..!

——————————————————–

तु वो जालिम है जो दिल मे रेह्कर भी मेरा ना बन सका ‘गालिब’..
और दिल वो काफिर है जो मुझ मे रेह्कर भी तेरा हो गया..!

——————————————————–

Sources:
http://en.wikipedia.org/wiki/Mirza_Ghalib
http://www.ranjish.com/shayari/urdu-poets/mirza-ghalib
 

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s